जरूरत पड़ने पर फेसबुक-वॉट्सऐप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को ब्लॉक किए जाएं : टेलीकॉम डिपार्टमेंट ने कंपनियों से मांगी राय

Sponsored Ads

गैजेट डेस्क. टेलीकॉम डिपार्टमेंट (डीओटी) ने फेसबुक, वॉट्सऐप, इंस्टाग्राम जैसी सोशल मीडिया ऐप्स को भी ब्लॉक करने की सिफारिश करते हुए इस पर राय मांगी है। डीओटी ने इस संबंध में टेलीकॉम कंपनियों, सोशल मीडिया कंपनियों और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स को लेटर भेज इस पर राय मांगी है। डीओटी ने अपने लेटर में लिखा है कि अगर राष्ट्रीय सुरक्षा खतरे में है, तो क्या इन्हें ब्लॉक किया जा सकता है?

18 जुलाई 2018 को लिखे इस लेटर में डीओटी ने लिखा है कि ‘आईटी मिनिस्ट्री और लॉ इंफोर्समेंट एजेंसियों ने आईटी एक्ट की धारा-69ए के तहत फेसबुक, वॉट्सऐप, इंस्टाग्राम जैसी मोबाइल ऐप्स को ब्लॉक करने के मुद्दे को उठाया है।’

Sponsored Ads

आईटी (अमेंडमेंट) एक्ट-2008 की धारा-69ए सरकार को इंटरनेट पर आपत्तिजनक कंटेंट को ब्लॉक करने की अनुमति देती है। अगर सरकार को लगता है कि किसी कंटेंट से राज्य की सुरक्षा को, भारत की संप्रभुता या अखंडता को खतरा है तो सरकार उस कंटेंट को ब्लॉक कर सकती है। इसके साथ ही अगर किसी कंटेंट की वजह से विदेशी संबंध बिगड़ने की आशंका है तो उस कंटेंट को भी सरकार ब्लॉक कर सकती है।

सरकार क्यों कर रही है इन्हें ब्लॉक करने की तैयारी?
– दरअसल, पिछले एक साल से वॉट्सऐप जैसी सोशल मीडिया ऐप्स के जरिए फैलने वाली अफवाहों से मॉब लिंचिंग की घटनाएं बढ़ गई हैं। इन्हें रोकने के लिए सरकार पहले ही कंपनियों को नोटिस भेज चुकी है। लेकिन सरकार अब इस तरह की घटनाएं रोकने के लिए इन्हें ब्लॉक करने की तैयारी कर रही है।
– अगर इसमें सहमति बन जाती है तो सरकार अफवाहें फैलते ही उस स्थान पर फेसबुक, वॉट्सऐप जैसी मोबाइल ऐप्स को ब्लॉक कर देगी, ताकि इनका इस्तेमाल न किया जा सके।

Sponsored Ads

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *